Surujak Chaihar Mein by Manoj Shandilya

120.00

पहले इसे मिथिलाक्षर तथा कैथी लिपि में लिखा जाता था जो बांग्ला और असमिया लिपियों से मिलती थी पर कालान्तर में देवनागरी का प्रयोग होने लगा। मिथिलाक्षर को तिरहुता या वैदेही लिपी के नाम से भी जाना जाता है।

SKU: SMN4 Category:

Description

मैथिली नेपालके उप-राष्ट्रिय भाषा हें जो मुख्य रूप से भारत में उत्तरी बिहार और नेपाल की तराई के ईलाक़ों में बोली जाने वाली भाषा है। यह प्राचीन भाषा हिन्द आर्य परिवार की सदस्य है और भाषाई तौर पर हिन्दी, बांग्ला, असमिया, उड़िया और नेपाली से इसका प्रमुख श्रोत संस्कृत भाषा है जिसके शब्द “तत्सम” वा “तद्भव” रूप में मैथिली में प्रयुक्त होते हैं साथ ही मौलिक “देशज” व अन्य भाषाओं से आए कतिपय “विदेशज” शब्द भी शब्दावली को समृद्ध करते हैं।

Additional information

Binding

Paperback

Author(s)

Manoj Shandilya

Complete Book Name

Surujak Chaihar Mein

ISBN

Language

Maithili

Publisher

Mailorang Prakashan

Total Pages

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Surujak Chaihar Mein by Manoj Shandilya”

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll Up